होम छत्तीसगढ़ तनाव प्रबंधन एवं आत्महत्या रोकथाम पर एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित

तनाव प्रबंधन एवं आत्महत्या रोकथाम पर एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित

56
0

जवानों को मानसिक स्वास्थ्य एवं आत्महत्या रोकथाम के प्रति किया गया जागरूक
नारायणपुर। संवेदनशील क्षेत्र और विषम परिस्थितियों में रहकर अपने कार्य को बेहतर और अनुशासित तरीके से करने वाले सुरक्षा जवानों के लिए अनुकूल माहौल में मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ाने तनाव प्रबंधन एवं आत्महत्या रोकथाम पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में थाना कोहकामेटा एवं आईटीबीपी के ई. कंपनी के जवान शामिल रहे। मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ.प्रशांत गिरी द्वारा ने मानसिक बीमारियों के प्रकार ,लक्षण एवं उपचार के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मानसिक तनाव आज एक बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है, कुछ हद तक तनाव होना स्वाभाविक भी है। लेकिन जब यही तनाव बढ़ने लगता है तो इससे व्यक्ति को एंग्जाइटी, अवसाद व अन्य कई गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं, अगर तनाव बढ़ जाए तो इससे बाहर निकल पाना व्यक्ति के लिए काफी मुश्किल हो जाता है। जो लोग डिप्रेशन की बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें अकेला नहीं छोड़ना चाहिए, क्योंकि अधिकतर अकेले में रहने वाले डिप्रेशन के चलते गलत कदम उठा लेते हैं। मानसिक तनाव का सामना कर रहे लोग जागरूकता के अभाव में मनोरोग चिकित्सक से परामर्श नहीं ले पाते हैं। ऐसे लोगों पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है।
उन्होंने मानसिक रोगों के प्रकार के बारे में जानकारी देते हुए बताया, श्मानसिक रोग प्रमुख रूप से डिप्रेशन, चिन्ता, कमजोर याददाश्त, भय व चिन्ता होना, थकान और सोने में समस्याएं होना, वास्तविकता से अलग हटना, दैनिक समस्याओं से निपटने में असमर्थ होना, समस्याओं और लोगों के बारे में समझने में समस्या होना, हद से ज्यादा क्रोधित होना आदि मानसिक बीमारी के लक्षण हैं। यदि किसी व्यक्ति को मानसिक बीमारी है, तो उसे तनाव को नियंत्रित करना चाहिए। नियमित चिकित्सा पर ध्यान देना चाहिए।
कार्यक्रम में क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट प्रीति चाण्डक ने बताया, किसी व्यक्ति में तनाव अगर लंबे समय तक बने रहें तो ये पेशंट को डिप्रेशन यानी अवसाद की तरफ धकेल सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि वक्त रहते ही इनकी पहचान कर ली जाए। मानसिक समस्याएं होने पर इनका निदान भी मौजूद रहता है। जिसे आप स्वयं या प्रोफेशनल हेल्प की मदद से नियंत्रित कर सकते है। उन्होंने पुलिस जवानों को तनाव प्रबंधन के के लिए अलग-अलग टेक्निक्स की जानकारी दी और कहा कि तनाव सबको होता है आपका नजरिया तय करता है कि आप कितने समय में उस तनाव से उबरते हैं। मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम में असिस्टेंट कमांडेंट धर्मेंद्र, इंस्पेक्टर निर्मल, महिपाल ,किशन धामी, प्रीतम,अशोक त्रिपाठी ,मोहन नेगी, सब इंस्पेक्टर अभिषेक दिनेश,तेज बहादुर एवं थाना कोहकमेटा प्रभारी योगेंद्र वर्मा की उपस्थिति में आयोजन किया गया।

पिछला लेखअम्बिकापुर निगम के गली-मोहल्लों में मिल रही निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधा
अगला लेखडीएलसीसी की बैठक 15 फरवरी को

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here