होम छत्तीसगढ़ अतिवृष्टि एवं अल्पवृष्टि दोनों हालात से निपटने तैयार रखें कार्ययोजना: कमिश्नर डॉ...

अतिवृष्टि एवं अल्पवृष्टि दोनों हालात से निपटने तैयार रखें कार्ययोजना: कमिश्नर डॉ अलंग

31
0

कमिश्नर ने वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिये ली कलेक्टरों की बैठक
एफसीआई को चावल प्रदान करने की गति बढ़ाने दिये निर्देश
बिलासपुर। कमिश्नर डॉ संजय अलंग ने लोगों को राहत प्रदान करने के लिए अतिवृष्टि और अल्पवृष्टि दोनों तरह की कार्य-योजना तैयार रखने को कहा है। डॉ अलंग आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए संभाग के कलेक्टरों की बैठक लेकर बारिश एवं खेती किसानी से जुड़े ताजा हालात की समीक्षा कर रहे थे। डॉ. अलंग ने कहा कि संभाग के सभी जिलों में समान रूप से बारिश नहीं हुई है। कोरबा एवं आधे रायगढ़ जिले में फिलहाल पानी कम गिरी हैं। यहां तक कि एक जिले में भी कहीं ज्यादा तो कहीं कम पानी रिकार्ड की जा रही हैं। इसलिए हमें अतिवृष्टि के साथ-साथ अल्पवृष्टि दोनो तरह के हालात से निपटने एवं लोगों को राहत प्रदान करने के लिए वैकल्पिक कार्य-योजना तैयार रखना होगा।
डॉ. अलंग ने बैठक में मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं की कार्य प्रगति की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि जो घोषणाएं स्थानीय स्तर पर उपलब्ध संसाधनों से पूर्ण की जा सकती हैं, उन्हें तत्काल पूर्ण कराएं। जिन कामों के लिए बड़े बजट की जरूरत है, उसका प्रस्ताव बनाकर शासन को तत्काल भेज दिया जाये। इसकी एक प्रति कमिश्नर कार्यालय को भी उपलब्ध करायें ताकि फालो-अप लिया जा सके। उन्होंने भारतीय खाद्य निगम को चावल प्रदाय करने की गति को और बढ़ाने को कहा है। उन्होंने कहा कि हालांकि इसके लिए 30 सितम्बर तक अंतिम समय-सीमा दी गई है। लेकिन इसके पहले हमें प्राथमिकता से यह काम पूर्ण करना होगा। फिलहाल रैक अब सभी जिले को पर्याप्त उपलब्ध हो रहे हैं। एफसीआई के अधिकारी ने बताया कि हमें चावल का उसी दिन भुगतान करने का निर्देश ह,ै इसलिए तत्काल इसकी बिल दिया जाये अन्यथा भुगतान में दिक्कत हो सकती है।
कमिश्नर ने बैठक में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत फसल परिवर्तन के अनुरूप बीज की उपलब्धता समितियों में सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। अगले साल की ऋण साख योजना को फसल परिवर्तन के अनुरूप तैयार करने को भी कहा है। बैठक में डीएपी खाद की कमी की पूर्ति के लिए वैकल्पिक उपाय भी सुझाये गये। संयुक्त संचालक कृषि ने बताया कि डीएपी के बदले यूरिया एवं एसएसपी अथवा यूरिया एवं इफको को मिलाकर उपयोग किया जा सकता है। इससे पौधों को डीएपी के बराबर पोषण तत्व मिलेगा। इस अवसर पर कलेक्टर श्री सौरभकुमार, जिला पंचायत सीईओ जयश्री जैन, डिप्टी कमिश्नर अर्चना मिश्रा, अखिलेश साहू सहित विभागीय वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

पिछला लेखस्वास्थ्य सुविधाओें की उपलब्धता में किसी प्रकार की समझौता नहीं : कलेक्टर
अगला लेखदत्तात्रेय गार्डन गौरेला का हो रहा है कायाकल्प

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here