होम खेल सिमरनजीत हैं भारत के असली हीरो, दो गोले दागे

सिमरनजीत हैं भारत के असली हीरो, दो गोले दागे

79
0

जीत के बाद भी जर्मन खिलाड़ी को हौसला दिया
नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत ने 41 साल बाद आज एक बार फिर ओलंपिक मेडल अपने नाम कर लिया है. जर्मनी के खिलाफ इस ब्रॉन्ज मेडल मैच में जहां रक्षापंक्ति में गोलकीपर श्रीजेश ने शानदार बचाव किए और अपनी टीम को मैच में आगे बनाए रखा. वहीं फ़ॉरवर्ड सिमरनजीत सिंह ने जर्मनी के गोल पर भारतीय आक्रमण की अगुवाई की और इस मैच में भारत के असली हीरो भी बनें. यहीं नहीं सिमरनजीत मैच के बाद खेलभावना की शानदार मिसाल पेश करते हुए हार से निराश जर्मनी के खिलाड़ी को हौसला भी देते नजर आए. सिमरनजीत की इस खेल भावना के फैंस कायल हो गए हैं और इसकी फोटो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.
भारत के लिए सिमरनजीत सिंह ने इस मैच में दो गोल दागे. इसके अलावा हरमनप्रीत सिंह, रुपिंदर पाल सिंह और हार्दिक सिंह ने एक-एक गोल कर इस मैच में टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई.
जश्न मनाते मनाते जर्मन खिलाड़ी को हौसला देने पहुंचे सिमरनजीत
अपनी टीम को जीत दिलाने के बाद सिमरनजीत सिंह पूरी टीम के साथ जश्न में डूब गए. इसी दौरान जर्मनी के खिलाड़ी निराश दिखे और मैदान पर ही सिर पर हाथ रखकर बैठे नजर आए. सिमरनजीत जश्न मनाते मनाते ही जर्मन टीम के करीब पहुंचे और उनके खिलाड़ी को हौसला देने लगे. अपनी इस अद्भुत खेल भावना से सिमरनजीत ने करोड़ों प्रशंसकों का दिल जीत लिया है.
सिमरनजीत ने किया भारत का पहला और फिर आखिरी गोल
इस मैच में सिमरनजीत ने भारत के लिए दो अहम गोल दागे. पहले क्वार्टर के बाद भारत इस मैच में 0-1 से पीछे चल रहा था. इस के बाद दूसरे क्वॉर्टर की शुरुआत, 17वें मिनट में सिमरनजीत सिंह ने भारत के लिए पहला गोल दागकर अपनी टीम को इस मैच में 1-1 की बराबरी पर ला दिया. इसके बाद तीसरे क्वॉर्टर के दौरान 34वें मिनट में सिमरनजीत सिंह ने मैच का अपना दूसरा और टीम का पांचवा गोल दागकर भारत को इस मैच में 5-3 की अहम बढ़त दिला दी.बता दें कि, सिमरनजीत मूलरूप से पंजाब के बटाला के रहने वाले हैं. हालांकि अब उनका परिवार उत्तर प्रदेश में रहता है.

पिछला लेखकोरोना के नए मामले बढऩे से चीन में हड़कंप, शहर सील
अगला लेखकुश्ती में भारत को एक और निराशा

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here