होम छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य सुविधाओें की उपलब्धता में किसी प्रकार की समझौता नहीं : कलेक्टर

स्वास्थ्य सुविधाओें की उपलब्धता में किसी प्रकार की समझौता नहीं : कलेक्टर

22
0

कलेक्टर ने किया जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण
कार्य में अनुपस्थित पाए जाने पर 11 डॉक्टर सहित 27 मेडिकल स्टॉफ को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश
मुंगेली । कलेक्टर श्री राहुल देव द्वारा जिले के नागरिकों को आवश्यक सेवा उपलब्ध कराने के लिए निर्माण और विकास कार्यों के साथ-साथ विभिन्न कार्यालयों और स्वास्थ्य केन्द्रों का लगातार निरीक्षण किया जा रहा है। इसी कड़ी में उन्होंने कल शाम जिला चिकित्सालय के ओपीडी एवं अन्य विभागों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर ने कर्तव्य पर अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित 11 डॉक्टरों सहित 27 मेडिकल स्टाफ के प्रति कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। स्पष्टीकरण संतोषप्रद नहीं पाए जाने पर संबंधित डाक्टरों एवं स्टाफ के विरूद्ध सिविल सेवा आचरण अधिनियम 1965 के तहत कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए। ड्यूटी के समय कार्य में अनुपस्थित डाक्टरों एवं मेडिकल स्टाफ में डॉ. के. एस. कंवर पैथोलाजी विशेषज्ञ, डॉ. देवेश खाण्डे नेत्र रोग विशेषज्ञ, डॉ. अभिषेक सिंह एवं डॉ. श्रेयांस पारख अस्थिरोग विशेषज्ञ, डॉ. कविता प्रसाद, डॉ सौम्या गौरहा, डॉ. आकांक्षा बघेल, डॉ. नेहा राजपूत एवं डॉ. दिनेश साहू चिकित्सा अधिकारी, श्रीमती प्रतिमा रानी गेंदले रिकार्ड किपर, श्री दिलीप बसंत परामर्शदाता, श्रीमती श्वेता सोनी सायक्रेट्रिक नर्स, श्रीमती अनिता शुक्ला परामर्शदाता, श्री प्रहलाद सिंह ठाकुर, श्री अनिल मरकाण्डे आडियोलाजिस्ट, श्री पीयूषकान्त द्विवेदी एवं श्री अमित कोशले आडियो सहायक, श्री सोमेश जायसवाल परामर्शदाता, श्री ओमप्रकाश भास्कर फार्मासिस्ट ग्रेड दो, श्री टीकाराम साहू योगा प्रशिक्षक इसके अलावा आयुर्वेदिक चिकित्सालय के डॉ प्रगति कौशिक विशेषज्ञ चिकित्सक, श्री विजय गेेंदले फार्मास्टि, उमेश कोशले एवं वीणाकांत पंचकर्म सहायक और देवेन्द्र साहू औषधालय सेवक शामिल हैं।
कलेक्टर श्री देव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा नागरिकों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार हेतु डॉक्टरों, मेडिकल स्टाफ और उपकरणों की संख्या में कई गुना वृद्धि की गई है। उन्होंनेे कहा कि जिला चिकित्सालय में चिकित्सकों एवं स्टॉफ द्वारा ड्यूटी के समय कर्तव्य पर अनुपस्थित होने के कारण मरीजों का उपचार एवं जांच बाधित हुआ है, जो कि घोर लापरवाही एवं अनुशासनहीनता को दर्शाता है। उन्होंने चिकित्सकों को चेतावनी देते हुए कहा कि जिला चिकित्सालय पहुंचने वाले मरीजों को स्वास्थ्य सुविधा के लिए कहीं भटकना ना पड़े। उन्हें समय पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध हो। इसमें किसी भी प्रकार की समझौता नहीं की जाएगी। इसके पूर्व उन्होंने जिला चिकित्सालय में उपचार कराने आए मरीजों से चर्चा कर स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री तीर्थराज अग्रवाल, मुंगेली एसडीएम श्री अमित कुमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. श्रीमती मधुलिका सिंह और डीपीएम श्री उत्कर्ष तिवारी मौजूद थे।

पिछला लेखजल जीवन मिशन : 22 गांवों में सिंगल विलेज स्कीम के लिए 9.66 करोड़ रूपए की मंजूरी
अगला लेखअतिवृष्टि एवं अल्पवृष्टि दोनों हालात से निपटने तैयार रखें कार्ययोजना: कमिश्नर डॉ अलंग

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here