होम छत्तीसगढ़ बीजापुर के सरहदी गांवो में अज्ञात बीमारी और महामारी जैसी कोई स्थिति...

बीजापुर के सरहदी गांवो में अज्ञात बीमारी और महामारी जैसी कोई स्थिति नहीं है – सीएमएचओ

25
0

सीएमएचओ डॉ. सुनील भारती ने जांच रिपोर्ट प्रस्तुत कर विस्तृत जानकारी दी
बीजापुर । मीडिया में प्रकाशित खबर अज्ञात बीमारी से 39 लोगों की मृत्यु के संदर्भ में कलेक्टर श्री राजेन्द्र कुमार कटारा के निर्देशन में खण्ड चिकित्सा अधिकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भैरमगढ़ के द्वारा 20 सदस्यीय स्वास्थ्य अमला ने प्रभावित गांवों में 23 सितम्बर 2022 को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने निकले 3 दिनों तक स्वास्थ्य अधिकारी एवं उनके टीम द्वारा शिविर लगाकर 05 गांवों के 610 ग्रामीणों का स्वास्थ्य जांच किया गया।
अज्ञात बीमारी से मृत्यु के संदर्भ में जानकारी लेने पर पता चला कि गांवों में ऐसा किसी भी प्रकार की मृत्यु नहीं हुई है। सन 2021 से अब तक कुल 12 व्यक्तियांे की मृत्यु हुई है। जिससे 5 व्यक्ति उम्रदराज होने पर प्राकृतिक मृत्यु, वहीं 01 व्यक्ति की हार्टअटैक, वहीं दो व्यक्ति की मृत्यु आकस्मिक हुई जिसमें सूजन के लक्षण नहीं थे। दो व्यक्ति के शरीर में सूजन का लक्षण बताया गया। मृत व्यक्तियों में मोरमेटा के 9 और ग्राम बैल (धरमा) में 03 कुल 12 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है तथा ग्राम पेठा में 03 व्यक्तियों के मृत्यु होने सूचना के अनुसार सरपंच, सचिव एवं चिकित्सा अधिकारी द्वारा जांच में पुष्टि हुई है, 03 व्यक्ति उक्त ग्राम के नहीं है।
मृत 12 व्यक्तियों की विस्तृत जानकारी लेने घर-घर जाकर सत्यापन किया गया, जिसमें जुलाई 2021 में 03, अप्रैल 2022 में 01, मई 2022 में 01 वह जून 2022 मंे 03, जुलाई 2022 में 01 अगस्त 2022 में 02 एवं वर्तमान सितंबर माह में केवल 01 व्यक्ति की मृत्यु होने की पुष्टि हुई।
ग्राम पंचायत मोरामेटा 23 सितम्बर से 25 सितम्बर तक स्वास्थ्य शिविर लगाकर 610 ग्रामीणों का गहनता से स्वास्थ्य जांच किया गया, जिसमें 4 ग्राम पंचायत बैल, धर्मा, ईतामपारा व ताकिलोड एवं उनके आश्रित ग्राम मरामेटा, गोंडमेटा, किसकल, घोटपाल, उतला, बड़ेपल्ली, छोटेपल्ली, झिल्ली, ताडोपोट, गोंगला, बोड़गा एवं ताकिलोड़ के आश्रित ग्राम जाड़गापारा में शिविर का आयोजन कर स्वास्थ्य जांच किया गया। उक्त पंचायतों एवं आश्रित गांवों में सर्दी-खांसी, बुखार, दस्त, सूजन, कमजोरी जैसे मरीज मिले सयुंक्त रूप से उन गांवों में सामान्य बुखार के 68 मरीज, मलेरिया के 24, सर्दी के 72, खुजली के 44, सूजन के 04 कमजोरी के 14, एनएनसी 15 सहित अन्य 364 मरीज मिले सभी मरीजों का स्वास्थ्य जांच करते हुए आवश्यक दवाईयां एवं स्वास्थ्य सलाह दी गई। अज्ञात बीमारी से ग्रसित व्यक्ति की सूचना मिलने पर उन व्यक्तियों की जांच से पता चला कि किसी भी ग्रामीण को अज्ञात बीमारी नहीं है। वहीं 2 लोगों को ब्लड प्रेशर, 01 व्यक्ति को टीबी की संभावना दिख रही है, 03 लोगों को कमजोरी, 02 लोग कमर दर्द, 01 सेलूलाईटिस, 02 व्यक्ति की बुखार एवं 04 लोगों के अन्य लक्षण दिखा।

पिछला लेखमुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने डोंगरगढ़ स्थित मां बम्लेश्वरी मंदिर में पूजा-अर्चना की
अगला लेखजिला अस्पताल बालोद में निःशुल्क डायलिसिस की सुविधा प्रारंभ

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here