होम छत्तीसगढ़ आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने की कामकाज की समीक्षा

आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने की कामकाज की समीक्षा

233
0
????????????????????????????????????

नारायणपुर : आबकारी एवं वाणिज्यकर और जिले के प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने आज देर शाम कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में जिला अधिकारियों की बैठक लेकर विभिन्न विभागों के कामकाज की समीक्षा की। उन्होनंे जिले की नारायणपुर ओरछा की प्रगति की जानकारी लेते हुए अपूर्ण निर्माण पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सभी जरूरी उपाय पूरे कर निर्माण कार्य जल्द से जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने इसकी लागत के बारे में भी जानकारी ली। अधिकारियों ने बताया कि संवेदनशील ईलाका होने के कारण और ठेकेदारों के बदलने और समय पर मटेरियल नहीं मिलने की भी जानकारी मंत्री को दी। मंत्री ने कहा कि यह सड़क अबूझमाड़ियों के और बेहतर जीवन के साथ ही लोगों के सुगम आवाजाही के लिए जीवन रेखा के रूप में महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही उन्होंने पुल-पुलिया निर्माण की भी जानकारी ली। उन्होंने जिले में शिक्षा की गुणवत्ता और बच्चों की बोर्ड परीक्षा की तैयारियों के संबंध में भी जानकारी ली। मंत्री को कलेक्टर पदुमसिंह एल्मा ने जिले में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों एवं अन्य विभागीय गतिविधियों के बारे में विस्तृत जानकारी दी।

मंत्री लखमा ने बैठक में कहा कि ऋण माफी योजना के तहत् इस वर्ष धान की उपज का मूल्य ढाई हजार रूपये किये जाने के परिणाम स्वरूप किसानों में अत्याधिक उत्साह हर्ष एवं उल्लास व्याप्त है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी में गुणवत्तापूर्ण कार्य करने की बात कही। इसके साथ ही उन्होंने गौठान के नजदीक ही मवेशियों के लिए चारागाह भी बनाया जाये। उन्होंने कहा कि गोठानों में कृत्रिम गर्भादान, टीकाकरण एवं बधियाकरण की सुविधायें भी दी जाये। जिससे दुधारू पशुओं की नस्ल में सुधार और दूध के उत्पादन में वृद्धि हो। इसके साथ ही घुरूवा-गोठान में सामुदायिक आधार पर बायोगैस प्लांट, कम्पोस्ट इकाईया एवं चारा विकास केन्द्र बनाने पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि इससे कम लागत में अधिक फसल उत्पादन एवं ऊर्जा उत्पादन का लाभ मिलेगा।

विधायक चंदन कश्यप ने कहा कि विकासखंड स्तर के अधिकारी ओरछा मुख्यालय में सप्ताह में कम से कम 3 दिन बैठकर सरकारी कामकाज निपटायें। ताकि अंदरूनी गांवों के ग्रामीणों को जिला मुख्यालय न आना पड़े। कलेक्टर बताया कि अधिकारियों को उनके द्वारा पूर्व में निर्देश दिये गये हैं और अधिकारी जिसमें मुख्य रूप से नायब तहसीलदार, जनपद सीईओ, बीएमओ ओरछा मुख्यालय में बैठकर कामकाज निपटा रहे हैं। नेट कनेक्टिविटी के कारण उन्हें जिला मुख्यालय आना-जाना पड़ता है।

बैठक में मंत्री लखमा ने कहा कि आगामी गर्मी के मौसम को देखते हुए जिले के अंदरूनी गांवों में शुद्ध पेयजल की सुविधा हेतु आवश्यकतानुसार हैंडपपों की मरम्मत की जाये और आवश्यकतानुसार नये हैंडपंप भी स्थापित किये जाये। जिससे ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मिल सकें। उन्होंने ओरछा विकासखंड के सर्वे कार्य की भी जानकारी ली तथा अधिकारियों को निर्देशित किया कि कार्य में तेजी लाकर जल्द से जल्द सर्वे का कार्य पूर्ण करें। उन्होंने खाद्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि संभव हो तो जिले के अंदरूनी गांवों में ग्रामीणों को राशन उपलब्ध करायें ताकि उन्हें राशन लेने के लिए दूर तक न चलना पड़े। बैठक में मंत्री लखमा ने स्वास्थ्य, विद्युत, वन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना सहित अन्य विभागों के काम-काज की समीक्षा की। बैठक में नगर पालिका अध्यक्ष मती वेदवती पात्र सहित वनमंडलाधिकारी सु स्टायलो मंडावी, एसडीएम भूपेन्द्र साहू, डिप्टी कलेक्टर सर्व दिनेश नाग, धनराज मरकाम के अलावा विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

पिछला लेखमुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना अंतर्गत 136 जोड़े बंधे विवाह बंधन में
अगला लेखनगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया से सिंगापुर के कौंसल जनरल गेविन चॉय की सौजन्य मुलाकात

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here