Home मुख्य समाचार अंबानी के घर के बाहर मिले कार के मालिक ने, पुलिसकर्मियों, मीडिया...

अंबानी के घर के बाहर मिले कार के मालिक ने, पुलिसकर्मियों, मीडिया पर उत्पीड़न करने के लगाए थे आरोप

22
0

मुंबई. उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के बाहर मिले विस्फोटकों से लदे वाहन के मालिक मनसुख हीरेन ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री को पत्र लिखकर आरोप लगाए थे कि पुलिस और मीडिया द्वारा उनका उत्पीड़न किया जा रहा है.

उन्होंने यह भी दावा किया था कि पीड़ित होने के बावजूद आरोपी के तौर पर उनके साथ व्यवहार किया जा रहा था. दक्षिण मुंबई में अंबानी के बहुमंजिला आवास ‘एंटीलिया’ के पास 25 फरवरी को जिलेटिन की 20 छड़ों के साथ एक स्कॉर्पियो कार पायी गई थी. पुलिस ने कहा था कि वाहन को एयरोली-मुलुंड पुल के पास से आठ फरवरी को चुराया गया. हीरेन (46) ठाणे में एक खाड़ी किनारे शुक्रवार की सुबह मृत पाए गए थे.

मामले की जांच महाराष्ट्र का आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) कर रहा है. हीरेन ने दो मार्च को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गृह मंत्री अनिल देशमुख और ठाणे तथा मुंबई के पुलिस आयुक्तों को कथित तौर पर एक पत्र लिखा था, जो शनिवार को सामने आया. पत्र पर ‘‘पुलिस आयुक्त, बृहन्मुंबई’’ के तीन मार्च का रिसींिवग स्टांप है.

हीरेन ने पत्र में दावा किया कि दोषियों के बारे में जानकारी नहीं होने के बावजूद उनका उत्पीड़न किया जा रहा है, जिन्होंने न केवल ‘‘उनकी कार चुरा ली बल्कि इसका दुरूपयोग भी किया.’’ हीरेन ने पत्र में लिखा, ‘‘वाहन किस तरह से चुराया गया, इस बारे में मैंने जवाब दे दिया है और पुलिस तथा मीडिया मेरा उत्पीड़न कर रही है.’’ उन्होंने जिन लोगों को पत्र लिखा उनसे सुरक्षा देने और हस्तक्षेप करने की मांग की.

पत्र में हीरेन ने कहा कि उन्होंने 18 फरवरी को वाहन चोरी का मामला विक्रोली थाने में दर्ज कराया था. उन्होंने पत्र में लिखा, ‘‘एटीएस के पुलिसर्किमयों ने 25 फरवरी को मुझे बताया कि वाहन अंबानी के आवास के पास पाया गया, जिसमें विस्फोटक रखे हुए थे. मुझसे पूछताछ हुई और वे चले गए.’’

उन्होंने कहा कि घाटकोपर थाने के अधिकारियों ने उनसे फिर 26 फरवरी को पूछताछ की. उन्होंने पत्र में लिखा कि बाद में उनसे विक्रोली थाने के अधिकारियों ने पूछताछ की और अगले दिन सुबह तक उन्हें हिरासत में रखा. उन्होंने कहा कि इसके बाद 27 फरवरी की सुबह उन्हें उनके घर के पास छोड़ा गया.

हीरेन ने कहा कि उन्हें उसी दिन विक्रोली और घाटकोपर थाने से भी फोन आया. उन्होंने कहा कि एक मार्च को उन्हें नागपाड़ा एटीएस ने भी फोन किया. पत्र में उन्होंने मुंबई अपराध शाखा, एनआईए द्वारा पूछताछ किए जाने का जिक्र किया है.

अंबानी के आवास के बाहर पाई गई कार को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया
उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के बाहर पिछले महीने मिली एक कार और जिलेटिन की छड़ों को मुंबई पुलिस ने फॉरेंसिक विश्लेषण के लिए भेज दिया है. एक अधिकारी ने बताया कि मुंबई के कलीना में स्थित फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) में कार की जांच की जाएगी जिससे उसमें मौजूद खून के धब्बा, बाल या अन्य कोई सुराग मिल सके.

उन्होंने कहा कि जांच में मिले किसी भी साक्ष्य से कार को चलाकर अंबानी के घर तक ले जाने वाले और उसमें बैठे लोगों के बारे में पता चल सकता है. अधिकारी ने कहा कि प्रयोगशाला की रिपोर्ट एक सप्ताह में आ जाएगी. एफएसएल के एक अधिकारी ने कहा कि प्रयोगशाला में इसका पता लगाया जाएगा कि छड़ों में जिलेटिन की मात्रा कितनी है.

उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों की सहायता से एफएसएल यह भी जानने की कोशिश करेगी कि क्या कार का चेसिस नंबर बदला भी गया था. इससे कार के असली मालिक और किसके नाम पर वाहन पंजीकृत था, इसका पता लगाने में मदद मिलेगी. अधिकारी ने कहा कि फॉरेंसिक प्रयोगशाला ने इस मामले को प्राथमिकता दी है और एक सप्ताह में रिपोर्ट सौंप दी जाएगी.

मनसुख हीरेन मौत मामले में एटीएस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया
उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के बाहर मिले विस्फोटकों से लदे वाहन के मालिक मनसुख हीरेन की मौत के मामले में महाराष्ट्र के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने रविवार को अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

हीरेन की मौत के मामले की जांच एटीएस को सौंपे जाने के बाबत शनिवार देर रात को आधिकारिक आदेश जारी किए गए थे. अधिकारी ने बताया कि राज्य गृह विभाग के आदेश पर एटीएस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या और आपराधिक साजिश समेत अन्य धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की है.

नियमानुसार, ठाणे जिले की मुंब्रा पुलिस ने मामले से संबंधित दस्तावेज एटीएस को सौंप दिए हैं. दक्षिण मुंबई में अंबानी के बहुमंजिला आवास ‘एंटीलिया’ के पास 25 फरवरी को जिलेटिन की 20 छड़ों के साथ एक स्कॉर्पियो कार पायी गई थी. पुलिस ने कहा था कि वाहन को एयरोली-मुलुंड पुल के पास से आठ फरवरी को चुराया गया. हीरेन (46) ठाणे में शुक्रवार सुबह मृत पाए गए थे.

इससे पहले, हीरेन के परिवार के सदस्यों ने हत्या का मामला दर्ज किए जाने की मांग की थी और उनका शव लेने से इंकार कर दिया था.हालांकि, पुणे के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद परिजन शनिवार को शव लेने पर सहमत हुए थे.

मृतक की पत्नी विमला हीरेन ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. हीरेन ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री को पत्र लिखकर आरोप लगाए थे कि पुलिस और मीडिया द्वारा उनका उत्पीड़न किया जा रहा है. उन्होंने यह भी दावा किया था कि पीड़ित होने के बावजूद उनके साथ आरोपी जैसा बर्ताव किया जा रहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here